0 मिशन तालीम के तहत बीते 9 सालों जरूरतमंद विद्यार्थियों को दी जा रही है मदद

रायपुर। छत्तीसगढ़ ज़कात फाउन्डेशन द्वारा हर वर्ष की तरह इस बार भी कौम के होनहार ज़रूरत मंद बच्चो की हौसला अफजाई व उनकी पढ़ाई जारी रखने के लिए वजीफा (स्कॉलरशिप) दिया गया। इस मौके पर राजधानी के मेडिकल कॉलेज मेकाहारा के सभागार में समारोह का आयोजन किया गया, जिसमे बतौर मुख्य अतिथि इमरान प्रतापगढ़ी, राज्य सभा सदस्य, राष्ट्रीय अध्यक्ष अल्प संख्यक विभाग, ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी शामिल हुए।

छत्तीसगढ़ ज़कात फाउन्डेशन द्वारा मिशन तालीम के तहत बीते 9 वर्षों से जरूरतमंद बच्चों को उनकी पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप दी जा रही है। इसके अलावा युवाओं को फैशन डिजाइनिंग (सिलाई ), कम्प्यूटर एकाउंटिंग कोर्स (Tally with GST ), मेहंदी आर्ट में प्रशिक्षण और सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा है। इन सब के अलावा उच्च शिक्षा और कॉम्पिटिशन की कोचिंग के लिए भी जरूरतमंदों को आर्थिक मदद दी जा रही है। इसका सुखद परिणाम यह है कि आज जकात फाउंडेशन की मदद से कई युवाओं ने अच्छी नौकरी हासिल कर ली है और बड़ी संख्या में विद्यार्थी इंजीनियर और चिकित्सा की पढ़ाई कर रहे हैं।

ज़कात फाउन्डेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में उपस्थित राज्यसभा सदस्य इमरान प्रतापगढ़ी, हज कमेटी के अध्यक्ष मो. असलम, उर्दू अकादमी के अध्यक्ष इदरीस गांधी,श्रम विभाग में सदस्य रहे शरीक राईस और अन्य अतिथियों का इस्तिकबाल किया गया।

अब तक 10 हजार लोगो को दी गई मदद

इस मौके पर जकात फाउंडेशन के मो. इनामुल्ला ने बताया कि बीते 9 वर्षों में संस्था ने लगभग 10 हजार बच्चों की आर्थिक मदद की है। इस बार भी 800 स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी जा रही है। लोगों से मिल रही जकात के जरिये फाउंडेशन द्वारा दी गई मदद से अब तक 7 स्टूडेंट्स डॉक्टर, 9 फार्मेसी, 15 नर्सिंग, 3 LLB, 25 इंजिनयरिंग और 3 युवा CA की पढ़ाई कर रहे हैं। इसके अलावा कई तो अब जॉब भी कर रहे है।

पहले मदद ली अब दे रहे जकात

मो. इनामुल्ला ने बताया कि बीते 9 वर्षों से किये जा रहे इस नेक कार्य का सबसे सुखद परिणाम यह है कि कल तक जिन बच्चों ने छत्तीसगढ़ ज़कात फाउन्डेशन से आर्थिक मदद ली, आज इनमे से कई अपने पैरों पर खड़े हो गए हैं और वे खुद संस्था में जकात यानि रूपये दान कर रहे हैं। आज संस्था का दायरा बढ़कर भिलाई, दुर्ग, अंबिकापुर, बिलासपुर, धमतरी और कोरबा तक पहुंच गया है और इस वर्ष संस्था को 50 लाख रूपये तक का जकात मिला है। इस रकम से अब संबंधित शहरों के जरूरतमंद बच्चों को भी मदद की जा रही है।

इमरान ने प्रतिभावान बच्चों का किया इस्तिक़बाल

इस मौके पर मुख्य अतिथि इमरान प्रतापगढ़ी ने उन विद्यार्थियों को सम्मानित किया जो जकात फाउंडेशन की मदद से नीट में चयनित हुए और आज डॉक्टरी की पढ़ाई कर रहे हैं। इसके अलावा मुतवल्लियों का भी सम्मान किया गया।

मिशन तालीम के लिए 1 लाख की जकात

राजयसभा सांसद इमरान प्रतापगढ़ी ने इस मौके पर कहा कि छत्तीसगढ़ ज़कात फाउन्डेशन जिस तरह का नेक काम कर रहा है वैसी कोई संस्था उन्होंने देश में अब तक कहीं नहीं देखी है। उन्होंने बताया कि वे यात्रा पर हरम शरीफ में थे, और वहां उन्हें फोन पर जकात फाउंडेशन के कार्यक्रम के लिए आमंत्रण मिला, चूंकि तालीम जैसे काम से जुड़ा कार्यक्रम था तो वे इससे मना नहीं कर सके। बीते 13 दिनों तक लगातार सफर पर होने के बावजूद वे इस कार्यक्रम में शामिल हुए।

जकात फाउंडेशन के कार्यो से प्रभावित होकर खुद इमरान प्रतापगढ़ी ने संस्था में 1 लाख रूपये का जकात दिया। उन्होंने बताया कि वे खुद सायकल चलाकर 12 किलोमीटर दूर स्कूल पढ़ने जाया करते थे। उन्होंने मौके पर मांओं से गुजारिश की कि वे अपनी इच्छाओं को बच्चों पर न थोपें, और वे जो करना चाहते हैं, वो उन्हें करने दीजिये।

इस समारोह को अन्य अतिथियों ने भी संबोधित किया। आखिर में इमरान प्रतापगढ़ी और अन्य अतिथियों ने स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप का चेक प्रदान किया। बता दें कि जकात फाउंडेशन द्वारा “मिशन तालीम” के तहत कौम के जरूरतमंद विद्यार्थियों को उनके साल भर की फीस दी जाती है, वहीं अन्य को कोचिंग और आगे की पढ़ाई के लिए भी आर्थिक मदद दी जा रही है।

Loading

error: Content is protected !!