Trending Now
CONG PC 2
  • 34 घोटालों की फेहरिस्त जारी की कांग्रेस पार्टी ने

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस ने रमन सरकार के कार्यकाल में एक लाख करोड़ से अधिक के घोटाले होने के आरोप लगाए हैं, और इसकी सूची जारी करते हुए प्रधानमंत्री से सवाल किये है कि वे इन घोटालों की जांच कब कराएंगे ?

राजीव भवन में पत्रकारों से चर्चा करते हुये प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला, चंद्रशेखर शुक्ला, अजय साहू व धनंजय सिंह ठाकुर ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छत्तीसगढ़ आ रहे है, उनका स्वागत है। प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार पर रोक की बातें करते है, लेकिन जब भ्रष्टाचार के मामले भाजपा से जुड़े हो तो प्रधानमंत्री मौन हो जाते है। अपने मित्र अडानी के घोटालों पर उनकी चुप्पी टूटने का इंतजार सारा देश कर रहा है। प्रधानमंत्री इस पर मौन है।

घोटालों के बने रिकॉर्ड

कांग्रेस के प्रवक्ताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री के दल भाजपा की छत्तीसगढ़ में 15 साल सरकार थी, इन 15 सालों में भ्रष्टाचार के अनेक नये रिकॉर्ड बने। रमन राज में 1 लाख करोड़ से अधिक का घोटाला हुआ है। रमन के घोटालों की जांच के लिये मुख्यमंत्री ने ईडी को और आपको पत्र भी लिखा है। रमन सिंह के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की जांच की शिकायत भी पीएमओ में हुई है। केंद्र में भाजपा की सरकार होने के कारण रमन सिंह के घोटालों की जांच नहीं हो रही है। राज्य की जनता का मानना है कि भाजपा का नेता होने के कारण रमन सिंह को केंद्र सरकार का संरक्षण मिला हुआ है।

देश भर में विपक्षी दलों की सरकारों, विपक्ष के नेताओं के ऊपर बिना किसी ठोस कारण के केंद्रीय एजेंसियां जांच के लिये पहुंच जाती है। छत्तीसगढ़ की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के घोटालों के पूरे तथ्य है फिर जांच क्यों नहीं करवाई जा रही है? मोदी जी से छत्तीसगढ़ की जनता उनके 15 सालों तक मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह के भ्रष्टाचारों की जांच का अनुरोध करते हैं। वैसे तो रमन और उनके मंत्रिमंडलीय सहयोगियों के घोटाले की लंबी सूची है लेकिन हम प्रधानमंत्री जी से 6 घोटालो की जांच की मांग करते है।

प्रदेश के आबकारी विभाग में वर्ष 2012 से 2017 के बीच शासन के उच्चस्तरीय संरक्षण में प्रदेश में मौजूद शराब उत्पादकों को फायदा पहुंचाने एवं करोड़ों के कमीशनखोरी किये जाने के उद्देश्य से बिना मापदण्डों का पालन किये उनके उत्पाद को IMFL (इंडियन मेड फॉरेन लिकर) की केटेगरी में शामिल करते हुऐ शराब बिक्री में ठेकेदारों को अधिक मुनाफा दिया जाकर इन अवैधानिक तरीके से IMFL श्रेणी की केटेगरी में रखी गयी शराब को प्रदेश में ऊंची दरों पर बेचने का कार्य करते हुए कई सौ करोड़ रूपयों की कमीशनखोरी कर भ्रष्टाचार को अंजाम दिया गया।

कांग्रेस पार्टी द्वारा रमन सरकार के तथाकथित घोटालों की जारी सूची :

1 36000 करोड़ का नान घोटाला।
2 पनामा पेपर घोटाला।
3 मोवा धान घोटाला।
4 कुनकुरी चावल घोटाला।
5 आंखफोड़वा कांड।
6 गर्भाशय कांड।
7 नसबंदी कांड।
8 डीकेएस घोटाला।
9 शिवरतन शर्मा के भतीजे द्वारा किया गया धान परिवहन घोटाला।
10 अवैध पेड़ कटाई।
11 पोरा बाई कांड।
12 तत्कालीन शिक्षामंत्री केदार कश्यप की पत्नी की जगह कोई और महिला बैठी परीक्षा देने।
13 फर्नीचर घोटाला।
14 विज्ञान उपकरण खरीदी में घोटाला।
15 4400 करोड़ का आबकारी घोटाला।
16 1667 करोड़ गौशाला के नाम पर चारा, दवाई एवं निर्माण में किया घोटाला।
17 बीज निगम में दवाइयां, बीज एवं कृषि यंत्रों की खरीदी में किया गया घोटाला।
18 स्टेट वेयर हाउस के गोदामों के निर्माण में घोटाला।
19 स्वास्थ्य विभाग में मल्टी विटामिन सिरप में घोटाला।
20 जमीन घोटाला।
21 झलकी घोटाला (बृजमोहन अग्रवाल)।
22 परिवहन चेक पोस्ट पर घोटाला।
23 मोबाईल खरीदी में घोटाला।
24 बारदाना घोटाला।
25 भदौरा जमीन घोटाला (अमर अग्रवाल)।
26 पुष्प स्टील घोटाला।
27 चौबे कॉलोनी जमीन घोटाला।
28 इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक घोटाला।
29 स्काई वॉक घोटाला।
30 एक्सप्रेस-वे घोटाला।
31 बिलासपुर सकरी बायपास घोटाला।
32 तेंदुपत्ता खरीदी घोटाला (300 करोड़)।
33 चिटफंड घोटाला 6000 करोड़ का।
34 रतनजोत घोटाला।

error: Content is protected !!