Trending Now

रायपुर। महादेव ऑनलाइन सट्टा एप मामले में EOW ने आज एक सिपाही की गिरफ़्तारी के बाद एक और बड़ी कार्रवाई की है। इस मामले में निलंबित एएसआई चंद्रभूषण वर्मा के मैनेजर किशन वर्मा को गिरफ्तार किया गया है। किशन को EOW की विशेष अदालत में पेश किया गया, जहां से कोर्ट ने उसे 19 जुलाई तक न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि आरोपी किशन वर्मा चंद्रभूषण वर्मा की काली कमाई का पूरा मैनेजमेंट करता था।

आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरों ने महादेव ऑनलाइन बुक सट्टा केस में जेल में बंद निलंबित एएसआई चंद्रभूषण वर्मा के मैनेजर किशन वर्मा को गिरफ्तार किया है। किशन ही सट्टे की अवैध रकम को संभालने और उसे वैध बनाने का काम करता था।

58 करोड़ रूपये को किया वैध

आरोपी ने इसी तरह महादेव ऑनलाइन सट्टा एप के द्वारा अवैध रूप से कमाए गए 58 करोड रुपए को अवैध से वैध किया था। आरोपी को गिरफ्तार कर आज ईओडब्ल्यू की विशेष कोर्ट में पेश किया गया, जहां से 19 जुलाई तक न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया है।

बता दे कि महादेव ऐप घोटाले के सभी आरोपियो की न्यायिक रिमांड 19 जुलाई को खत्म हो रही है। EOW द्वारा जारी प्रेस नोट में गिरफ्तार आरोपी के संबंध में बताया गया है कि ”आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो द्वारा जांच की जा रही महादेव ऑनलाईन बुक सट्टा मामले में आज किशन लाल वर्मा को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसके द्वारा चंद्रभूषण वर्मा, मो. जासिफ राहुल वक्टे आदि लोगों के साथ मिलकर महादेव ऑनलाईन बुक सट्टा के प्रमोटर्स रवि उप्पल एवं अन्य माध्यमों से हवाला के माध्यम से आये 58 करोड़ रूपये से अधिक के रकम को फर्मों/ कंपनियों जैसे एम. के. इंटरप्राईजेस, आदित्य ट्रेडिंग कंपनी, सृजन एसोसिएट, सृजन इंटरप्राईजेस प्रा.लि., सृजन ट्रेडिंग कंपनी आदि के माध्यम से फर्जी /बोगस बिल, बैंक एन्ट्री दिलाकर अवैध रकम को वैध स्वरूप प्रदान करने में सहयोग किया गया है।

किशन के खाते में जमा 45 लाख को कराया फ्रीज

आरोपी किशन लाल वर्मा एम.के. इंटरप्राईजेस का प्रोप्राईटर भी है वह फर्मों/कंपनियों के जरिये चंद्रभूषण वर्मा एवं अन्य के साथ मिलकर हवाला रकम को विभिन्न फर्मों / कंपनियों, जमीन खरीदने में निवेश एवं अन्य व्यक्तियों को वितरण में भी शामिल रहा है। इसके बैंक खाते से 43 लाख से अधिक की रकम को फ्रीज कराया गया है। प्रकरण में पूछताछ एवं अग्रिम वैधानिक कार्यवाही जारी है।”

error: Content is protected !!