मनेन्द्रगढ़। गुरुवार की सुबह चनवारीडांड स्थित वन काष्ठागार के पीछे पत्रकार का शव रक्तरंजित हालत में मिला। पुलिस द्वारा मृतक की पत्नी से गहन पूछताछ की जा रही है, क्योंकि बताया जाता है कि मृतक के घर में भी खून के निशान मिले हैं।

मनेंद्रगढ़ थानांतर्गत मौहारपारा निवासी 32 वर्षीय रईस अहमद कुछ दिनों से अपनी पत्नी के साथ शहर से लगे ग्राम चनवारीडांड में एक किराए के मकान में रह रहे थे। गुरुवार की सुबह करीब 7 बजे घर से 200 मीटर की दूरी पर चनवारीडांड स्थित वन काष्ठागार के पीछे कुछ लोगों ने खून से लथपथ एक युवक का शव देखा। चेहरा कपड़े से ढंका हुआ था।

सूचना मिलने पर पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन सिंह स्वयं पुलिस टीम के साथ घटना स्थल पहुंचे। शव की शिनाख्त रईस अहमद के रूप में की गई। इसके बाद पुलिस मृतक के घर पहुंची। घर पर मृतक की पत्नी सफीना अपनी 3 वर्षीय बच्ची के साथ थी।

घर पर आये थे दो युवक

पुलिस अधीक्षक ने मृतक की पत्नी से जरूरी पूछताछ की। शुरूआती पूछताछ में उसने बताया कि देर रात 2 युवक घर पर आए थे। वहीं मृतक की मासूम बेटी ने भी पुलिस को अहम जानकारी देते हुए बताया कि उसके पिता रात में बचाओ-बचाओ की आवाज लगा रहे थे। घर की दीवार एवं दरवाजे पर खून के छींटे भी पाए गए हैं। वहीं घर से करीब 20 मीटर की दूरी पर सीसी सडक़ के किनारे खून से सना एक गमछा भी पुलिस ने बरामद किया है। संदेह के आधार पर पुलिस द्वारा मृतक की पत्नी को सिटी कोतवाली मनेंद्रगढ़ लाकर पूछताछ की जा रही है।

फोरेंसिक टीम ने जुटाए साक्ष्य

खून से लथपथ युवक का शव मिलने की सूचना पर अंबिकापुर से फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची और उसके द्वारा जांच शुरू की गई। फोरेंसिक टीम ने मौका मुआयना कर घटना से संबंधित तथ्य एकत्र किए हैं। माना जा रहा है कि युवक की हत्या कहीं और कर पुलिस को गुमराह करने के लिए लाश को दूर लाकर फेंका गया है।

मृतक ने झारखंड पुलिस के सहयोग से किया था पत्नी को बरामद

वारदात वाली रात मृतक के घर आए 2 आरोपी झारखंड राज्य के बताए जा रहे हैं। इसकी पुष्टि इससे होती है कि 4 माह पूर्व इलाज के लिए रायपुर गई मृतक की पत्नी वहां से लापता हो गई थी। बाद में मृतक को उसके मझगांव जिला गढ़वा झारखंड में 20 वर्षीय आरजू खान के कब्जे में होने की जानकारी हुई। उसने पत्नी की बरामदगी के लिए स्थानीय पुलिस से मदद मांगी, लेकिन कोई मदद नहीं मिली। ढाई माह पूर्व वह स्वयं झारखंड गया और वहां की पुलिस के सहयोग से किसी प्रकार अपनी पत्नी को वहां से वापस मनेंद्रगढ़ अपने घर लेकर आया, लेकिन जब परिवार वालों ने उसे साथ रखने से इंकार कर दिया तो वह अपनी पत्नी के साथ चनवारीडांड स्थित किराए के मकान में रह रहा था।

पुलिस को इस बात की आशंका है कि मृतक की पत्नी हत्यारों के विषय में जानती है, जिसे लेकर उससे गहन पूछताछ की जा रही है। पुलिस के द्वारा शीघ्र मामले का खुलासा किए जाने की बात कही गई है।

Loading

error: Content is protected !!