बलौदाबाजार। जिला बलौदाबाजार-भाटापारा के हथबंद में एटीएम से कैश चोरी के मामले में पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही वारदात करने वालों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों से पुलिस ने चोरी की पूरी रकम बरामद करने में भी सफलता हासिल की है।

चोरी के तरीके से हुआ ये संदेह

चोरी की यह वारदात हथबंद के एटीएम में हुई थी, जिसमें 6 लाख 66 हजार रुपयों की चोरी हो गई थी। SSP, बलौदाबाजार दीपक कुमार झा ने बताया कि “एटीएम मशीन का निरीक्षण एवं एटीएम मशीन संबंधित विशेषज्ञों ने जांच की। जिससे यह पता चला कि बिना मशीन को क्षति पहुंचाए एटीएम मशीन से कैश निकालना, बिना एटीएम पासवर्ड एवं चाबी के संभव नहीं। एटीएम में केवल तोड़फोड़ कर सारा पैसा निकालना किसी भी स्थिति में संभव नहीं है। जिससे एटीएम चोरी में कैश लोड करने वाले एजेंसी के कर्मचारियों की मिलीभगत की आशंका हुई।”

सबूत मिटाने के लिए किया तोड़-फोड़

आरोपियों ने चोरी के दौरान सबूत मिटाने के लिए एटीएम में लगे कैमरे में तोड़फोड़ भी किया था और घटना को तोड़फोड़ का रूप देने के लिए एटीएम के पार्ट्स निकाल कर बिखेर दिये थे, ताकि पुलिस को गुमराह किया जा सके।

जांच में हुआ ये खुलासा

इस मामले में पुलिस ने खुलासा किया कि एटीएम में कैश लोड करने वाले एजेंसी के कर्मचारी ने ही चोरी की पूरा साजिश रची थी। समृद्धि इंटरप्राइजेज फर्म के जरिये इंडिया वन प्राइवेट लिमिटेड के एटीएम में कैश लोड का काम किया जाता है। जांच के दौरान एटीएम में कैश लोड करने वाले एजेंसी के कर्मचारियों से पुलिस ने पूछताछ की। दरअसल इस एटीएम का पासवर्ड और चाबी युवराज चंद्राकर के पास थी। एटीएम मशीनों में नोटों की गड्डियां डालते वक्त युवराज चंद्राकर की नियत डोलने लगी थी और वह काफी समय पहले से ही एटीएम का पैसा चुराने की योजना बना रहा था। 7 जुलाई को हथबंद स्थित निजी बैंक के एटीएम में कैश लोड किया गया। कैश लोड करने का काम युवराज चंद्राकर और फर्म का एक अन्य कर्मचारी ऋषभ ने किया।

इस प्लानिंग के तहत की एटीएम से चोरी

युवराज चंद्राकर ने अपने साथी शुभम यादव को पहले से ही एटीएम को ऑपरेट करके पैसा निकालने के बारे में बता दिया गया था। युवराज ने अपने साथी को एटीएम के अंदर, बाहर, सिक्योरिटी प्रोग्राम और महत्वपूर्ण लॉक सिस्टम की जानकारी भी दे दी थी। योजना के अनुसार युवराज ने एटीएम का पासवर्ड और चाबी शुभम यादव को दी। शुभम यादव और तीसरा आरोपी शुभम महावर, मुख्य आरोपी 8 जुलाई की रात ग्राम हथबंद आए। यहां पासवर्ड और चाबी का इस्तेमाल कर एटीएम में रखा सारा कैश चोरी कर लिया और लूट या चोरी दिखाने के लिए एटीएम में तोड़फोड़ की।

वारदात में शामिल तीनों आरोपी गिरफ्तार

इस मामले के तीनों आरोपियों में से युवराज चंद्राकर वर्तमान में एटीएम कैश लोड एजेंसी में काम कर रहा था। दूसरा आरोपी शुभम महावर एटीएम में कैश लोड एजेंसी के लिए पहले काम करता था। तीनों आरोपियों ने एटीएम से पैसा चोरी करना स्वीकार किया है। वहीं पुलिस ने आरोपियों से कैश 6,66,800 रुपये बरामद भी कर लिया। साथ ही आरोपियों से वारदात में इस्तेमाल एक बाइक भी बरामद की गई है। आरोपियों को कोर्ट में पेश करते हुए जेल भेज दिया गया है।

Loading

error: Content is protected !!