Trending Now

रायपुर। बलौदाबाजार में गिरौदपुरी धाम की एक बस्ती में बने जैतखाम और सतनामी समाज के पूजा स्थल में तोड़-फोड़ के विरोध में प्रदर्शन करने आज सतनामी समाज के लोग कलेक्ट्रेट परिसर में एकत्र हुए। इस दौरान लोग उग्र हो गए और कलेक्टर दफ्तर और जिला पंचायत कार्यालय में आग लगाने के साथ ही परिसर में खड़े कई वाहनों में तोड़फोड़ कर उन्हें फूंक दिया। इस दौरान मौके पर पहुंची पुलिस के साथ भी जमकर झूमाझटकी हुई। घटना में कई लोग घायल भी हुए हैं। इस घटना के बाद तनाव व्याप्त है और शहर में कर्फ्यू जैसे हालात निर्मित हो गए हैं।

‘गिरफ्तार लोग असली आरोपी नहीं’

गिरौधपुरी में जैतखाम तोड़े जाने के विरोध में समाज के हजारों की संख्या में लोग दशहरा मैदान में कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे थे। आज यह भीड़ कलेक्ट्रेट और जिला पंचायत कार्यालय का घेराव करने पहुंच गई। कुछ देर में ही प्रदर्शनकारी उग्र हो गए। लोगों ने कलेक्ट्रेट में खड़े वाहनों में तोड़फोड़ की। वहां खड़ी गाड़ियों में तोड़फोड़ और आगजनी करने के बाद कलेक्टर कार्यालय और जिला पंचायत कार्यालय में आग लगा दी। समाज के लोगो का आरोप है कि पुलिस ने जैतखाम में तोड़फोड़ के मामले में जिन 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, वो असली अपराधी नहीं हैं।

इस दौरान आग लगाने के सूचना पर फायर ब्रिगेड की 7 गाड़ियां पहुंची हैं। यहाँ मौजूद प्रदर्शनकारियों ने दमकल की 2 गाड़ियों में आग लगा दी और एक में तोड़फोड़ भी की है। इस घटना के दौरान कलेक्टर कार्यालय के अंदर 100 से 150 लोग फंसे रहे, जो अपने काम से गए थे। उन्हें पीछे से किचन के रास्ते पुलिस बल ने बाहर निकाला। इन सभी को मैदान में सुरक्षित रखा गया है।

इस आगजनी में कई विभागों में रखे दस्तावेज जलकर राख हुए है। कलेक्टर कार्यालय में आग लगने से कई विभागों के दस्तावेज जलकर राख हो गए हैं। वहीं आधा दर्जन से ज्यादा कारें, बाइक भी जल गए हैं। इनमें सरकारी वाहन भी शामिल हैं।

इस घटना के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा और भाटापारा की ओर जाने वाले मार्ग से लेकर रायपुर की ओर जाने वाले मार्ग के बीच की दुकानों को बंद करवा दिया है और बाकी स्थानों पर भी लोगो की आवाजाही रोक दी गई है।

पूजा स्थल में तोड़फोड़ से भड़का गुस्सा

गिरौदपुरी धाम से 5 किलोमीटर दूर एक बस्ती मानाकोनी है। यहां पर पुरानी गुफा है, जो बाघिन गुफा के नाम से प्रचलित है। जहां जैतखाम और सतनामी समाज के पूजा स्थल में तोड़-फोड़ की गई थी। इसके बाद समाज के लोगों ने चक्काजाम किया था। इससे पूरे सतनामी समाज में आक्रोश है।

गृहमंत्री ने की थी न्यायिक जांच की घोषणा

पूर्व में इस मामले में गृहमंत्री विजय शर्मा ने रविवार को ट्वीट कर कहा था कि​ पूरे मामले की न्यायिक जांच की जाएगी। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के निर्देश थे कि सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वाली इस घटना की न्यायिक जांच कराई जाए। यह न्यायिक जांच रिटायर्ड जज या कार्यरत जज से कराई जाएगी।

 

error: Content is protected !!