रायपुर। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के शासनकाल में हुए घोटालों को लेकर ACB और EOW पूरी तरह एक्शन में है। EOW की टीम ने सेंट्रल जेल रायपुर में बंद आरोपियों से पूछताछ करने के साथ ही अब जमानत पर छूटे आरोपियों की धरपकड़ शुरू कर दी है। इसी कड़ी में पहले शराब घोटाले के आरोपी अरविंद सिंह, और फिर अनवर ढेबर को हिरासत में लिया गया।

10 अप्रैल तक रिमांड पर अरविन्द

EOW की टीम ने तीन हजार करोड़ से अधिक के शराब घोटाले में जेल से जमानत पर छूटते ही ट्रांसपोर्टर अरविंद सिंह को हिरासत में ले लिया था। 2 अप्रैल को हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद अरविंद कल शाम जेल से रिहा हुआ था। और एसीबी ने जेल से निकलते ही उसे हिरासत में ले लिया। रात भर पूछताछ के बाद उसे आज दोपहर विशेष न्यायाधीश की कोर्ट में रिमांड लेने के लिए आवेदन पेश किया गया। एसीबी ने अरविन्द सिंह की सात दिन की रिमांड मांगी। जिस पर बहस के बाद कोर्ट ने पूछताछ के लिए अरविन्द सिंह को 10 अप्रैल तक के लिए रिमांड पर दे दिया है।

अरविंद सिंह के बाद EOW ने अनवर ढेबर को भी हिरासत में लिया है। अनवर कुछ महीनों से जमानत पर था। बताया जा रहा है कि अनवर को कुम्हारी टोल प्लॉजा के पास से हिरासत में लिया गया। अनवर को पूछताछ के लिए EOW के कार्यालय में रखा गया है। माना जा रहा है कि उसे कल कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लेने का प्रयास किया जायेगा।

बता दें कि शराब घोटाले में अरविन्द सिंह एक अहम कड़ी रहा है । वह रकम कलेक्शन के साथ-साथ बोतलों में लगने वाले होलोग्राम युक्त ढक्कन बनाने वाली फर्म का संचालक भी था। वह ईडी की गिरफ्त में आने के बाद से जेल में बंद था। इस मामले में अब तक दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। आने वाले दिनों में कुछ और लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है।

Loading

error: Content is protected !!