दुर्ग। CG PSC की परीक्षा पास करवाने के बाद अधिकारी वर्ग की नौकरी लगवाने के नाम पर 40 लाख रुपये की ठगी करने वाले एक व्यक्ति के खिलाफ दुर्ग जिले की पद्मनाभपुर पुलिस ने धोखाधड़ी का जुर्म दर्ज किया है। आरोपित पूर्व में यहां के चौहान ग्रीन वैली में किराये पर रहता था और वह मूलतः अंबिकापुर का रहने वाला है।

पुलिस ने बताया कि जेल लाइन दुर्ग निवासी शिकायतकर्ता तारकेश्वर साहू की शिकायत पर आरोपित विकास ठाकुर के खिलाफ प्राथमिकी की गई है। आरोपित विकास ठाकुर, रिंग रोड शिव मंदिर के पास गंगापुर खुर्द श्मशान घाट रोड अंबिकापुर जिला सरगुजा का रहने वाला है।

ऊंची पहुंच का हवाला देकर लिया झांसे में..

पीड़ित तारकेश्वर और आरोपित विकास ठाकुर की पुरानी जान पहचान थी और उनके बीच दोस्ती भी थी। इसके कारण वे दोनों एक दूसरे के घर आना-जाना करते थे। आरोपित ने एक दिन पीड़ित के घर जाकर कहा कि उसकी CG PSC के अधिकारियों से अच्छी जान पहचान है। इसके बल पर उसने कई लोगों की नौकरी लगवाने की बात बताते हुए किसी की भी नौकरी लगवाने का दावा किया।

अपनी पैतृक जमीन दिए रूपये..

दिसंबर 2022 में सीजी पीएससी की भर्ती में आरोपित ने पीड़ित से फार्म भरवाया और भरोसा दिलवाया कि वो परीक्षा पास करवाने से लेकर भर्ती की प्रक्रिया पूरी करवाकर देगा। इसके एवज में आरोपित ने 40 लाख रुपये लगने की बात कही। आरोपित की बातों में आकर तारकेश्वर ने नकद और अपनी पत्नी के खाता व परिचितों के माध्यम से अलग अलग किस्तों में कुल 40 लाख रुपये आरोपित को दिए थे। रुपये देने के लिए आरोपित ने अपने ग्राम तिवरैया धरसीवा जिला रायपुर की पैतृक जमीन भी बेच दी।

पांच लाख रुपये का दिया चेक

रुपये लेते समय आरोपित विकास ठाकुर ने आश्वासन दिया था कि नौकरी न लगने की स्थिति में पूरे रुपये वापस हो जाएंगे। मगर सीजी पीएससी की परीक्षा में पीड़ित की नौकरी न लगने पर उसने आरोपित से संपर्क किया तो पहले तो आरोपित ने काफी घुमाया और उसके बाद उसने नौ अक्टूबर 2023 को पीड़ित को पांच लाख रुपये का एक चेक दिया और भरोसा दिलाया कि धीरे-धीरे वो पूरी रकम वापस लौटा देगा।

फरार विकास की हो रही है तलाश

आश्वासन देने के कुछ दिन बाद ही विकास भिलाई छोड़कर फरार हो गया। आरोपित ने अपनी मां की तबीयत खराब होने की बात कही और अंबिकापुर चला गया। वहां जाने के बाद आरोपित ने पीड़ित का फोन उठाना बंद कर दिया। पीड़ित ने उसके चेक को बैंक में लगाया तो वो चेक भी बाउंस हो गया। पीड़ित ने आरोपित के भिलाई स्थित घर में जाकर पता किया तो पता चला कि आरोपित अपना पूरा सामान लेकर यहां से फरार हो चुका है। इसके बाद पीड़ित ने पद्मनाभपुर थाना में इसकी शिकायत की। जिसके आधार पर पुलिस ने विकास ठाकुर के खिलाफ धोखाधड़ी की धारा के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। फ़िलहाल विकास फरार है और उसकी सरगर्मी से तलाश हो रही है।

Loading

error: Content is protected !!